लेख: सेलेब्रिटी पी.आर. का घपला (मोहित शर्मा ज़हन)

14925302_1235529103206857_8598406039823181883_n

पैसा और सफलता अक्सर अपने साथ कुछ बुरी आदते लाते हैं। कुछ लोग इनसे पार पाकर अपने क्षेत्र में और समाज में ज़बरदस्त योगदान देते हैं वहीं कई शुरुआती सफलता के बाद भटक जाते हैं। एक बड़े स्तर पर आने के बाद प्रतिष्ठित व्यक्ति पर इमेज, ब्रांड मैनेजमेंट की ज़िम्मेदारी आ जाती है लोगो पर, अब या तो आप मेहनत और साफ़-सुथरे तरीके से ये काम करे या फिर अपनी मन-मर्ज़ी का जीवन जीते हुए बाद मे अपने कृत्यों को सही ठहराने की कोशिश करें। इन्ही में कुछ विख्यात लोग लोकप्रियता बढ़ाने के लिए अपने पीआर एजेंट या नेटवर्क का सहारा लेते हैं। जैसे अगर कोई सेलिब्रिटी कोई गलत बात, काम करता पकड़ा जाए या उसकी वजह से जनता, समाज को कोई नुक्सान हो तो अपनी टीम की मदद से वो ये बातें प्रचारित करने की कोशिश करेगा कि उसका ये मतलब नहीं था वो तो इस काम से समाज की मानसिकता दिखाना चाहता/चाहती थी या उसे सेलिब्रिटी होने की सज़ा मिल रही है। ये सही है….सेलिब्रिटी होने के मज़े तक सब ठीक पर उस लाइफ में एडजस्ट करने वाले हिस्सो में शिकायत करो।

उदाहरण के लिए किसी सेलिब्रिटी ने एक मुद्दे पर बिना जानकारी के कोई बेवकूफी भरी बात कही अब उसका सोशल मीडिया आदि जगह मज़ाक उड़ा। तो उसकी बेवकूफी गयी एक तरफ और उसने निकाल लिया अपने अल्पसंख्यक, महिला या किसी अन्य मजबूरी का कार्ड, फिर क्या मीडिया, जनता का ध्यान कहीं और गया। यानी अगर उस बात की तारीफ़ होती तब कोई दिक्कत नहीं थी, जहाँ एक वर्ग ने मज़ाक उडा दिया तो घुमा-फिरा कर बात अपने ऊपर मत आने दो।

साथ ही ये लोग समय, स्थिति के अनुसार नए-नए स्टंट सोचते हैं। जैसे अपने बीते जीवन में किसी दुखद काल्पनिक घटना को जोड़ देना या किसी बीमारी (खासकर मानसिक) से जूझकर उस से जीतना दिखाना। क्या यार….आपके एक जीवन में घटनाओ का घनत्व कुछ अधिक नहीं हो गया? मैं यह नहीं कह रहा कि सब बड़े लोग ऐसा दिखावा करते है पर ऐसा करने वाले लोगो का अनुपात बहुत ज़्यादा है। आम जन – ख़ास लोग सबका जीवन चुनौतियों, संघर्षो वाला होता है पर ज़बरदस्ती के पीआर स्टंट कर के कम से कम खुद से झूठ मत बोलिये। इस नौटंकी के बिना भी आप लोकप्रिय और महत्वपूर्ण सामाजिक मुद्दों पर जनता का ध्यान ला सकते हैं (बशर्ते आप वैसा करना चाहें ना की केवल अपनी पब्लिसिटी के चक्कर में पड़े रहे)। हालांकि, पैसे के पीछे भागते मीडिया को नैतिक-अनैतिक से कोई मतलब नहीं होता। हर दिन कुछ नया वायरल करने की होड़ में मीडिया के लिए कुछ नैतिकता की सोचना पाप है। वैसे व्यक्ति के बारे में थोड़ी रिसर्च और पहले का रिकॉर्ड देख कर आप जान सकते हैं कि कौन सही दावा कर रहा है और कौन पीआर के रथ पर सवार है।

जो पाठक सोच रहे है कि क्या फर्क पड़ता है? बेकार में मुद्दा बनाया जा रहा है! अगर ऐसा करने से किसी को नुक्सान नहीं पहुँच रहा तो क्या गलत है? उन मित्रो से मेरा यह कहना है कि कभी-कभी किसी वर्ग को लंबे समय से छद्म रूप से हो रहा नुक्सान सीधे नुक्सान से बड़ा होता है। जिन लोगो को वाकई मीडिया, जनता के ध्यान-पैसे की आवश्यकता है वो बेचारे तरसते रह जाते हैं और उनका हिस्सा, उनकी फुटेज गलत संस्थाएं, लोग खा लेते हैं। मुश्किल है पर सबसे निवेदन है कि अपरंपरागत न्यूज़ सोर्सेज पर ध्यान दें, सही लोगो-संस्थाओ को आगे बढ़ने मे हर संभव मदद करें। छोटे बदलाव से धीरे-धीरे ही सही पर बड़ा असर पड़ेगा।

============

My We Heart It Profile

Posted by Mohit Sharma at 1:40 AM

Dushman (Anti-Body) Short film – Original Sequence, Behind the Scenes…etc

art-artist-black-canvas-Favim.com-2386989

कल पुणे के थीएट्रिकस ग्रुप द्वारा एलियन हैंड सिंड्रोम नामक मानसिक विकार (जिसमे व्यक्ति का एक हाथ कभी-कभी उसके नियंत्रण से बाहर होकर अपनी मर्ज़ी से हिलने-डुलने लगता है, चीज़ें पकड़ने लगता है और कुछ मामलों में लोगो पर या स्वयं पीड़ित पर हमला करता है) पर मेरी लिखी कहानी-स्क्रिप्ट पर ‘दुश्मन (एंटी-बॉडी)’ नामक शॉर्ट फिल्म बनायीं।

Dushman (Vimeo)

Youtube Link 1

Youtube Link 2

जिसके लिए मुझे अबतक अच्छी प्रतिक्रियाएं ज़्यादा मिली हैं। टीम ने उम्मीद से अच्छा काम किया है। वैसे फिल्म को मैंने एक लड़की किरदार के हिसाब से लिखा था पर कास्टिंग में समस्या होने की वजह से स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी और तुफ़ैल ने मुख्य भूमिका निभाई। इस फिल्म को फाइनैंस मैंने किया था और फिल्म बनते समय कुछ दृश्य कम बजट की वजह से हटाने पड़े। पुणे से इतनी दूर सिर्फ इंटरनेट के माध्यम से कोलैबोरेशन करने की वजह से कुछ बातें खासकर मेडिकल, साइंटिफिक कोण फिल्म में मंद पड़ गए या हो नहीं पाये। ओवरआल जितना अच्छा किया जा सकता था उतना हो नहीं पाया, जिसकी ज़िम्मेदारी मैं लेता हूँ। शायद इसलिए कि इस जटिल आईडिया को कार्यान्वित करने में कई बातों का ध्यान रखते हुए बहुत सावधानी बरतनी थी। वैसे ऐसा मेरे साथ पहले कई बार हुआ है पर तब सोचा गया आईडिया और फाइनल रिजल्ट में अंतर कम या काम चलाऊ होता था। चलिए इस बहाने कई बातें सीखी इस दौरान। सबसे बड़ी बात यह की अगर आप कहीं मौजूद नहीं हो सकते तो जटिल कहानियां, सीन को इस तरह प्रेषित करें कि वह आसान लगे करने वालो को, किरदार कर रहे लोग कनेक्ट करें। साथ ही किसी भी माध्यम के कलाकारों चाहे वो चित्रकार हो, ग्राफ़िक डिज़ाइनर हो, अभिनेता हो या और कोई रचनाकार हो…माध्यम में उनके सकारात्मक पहलुओं और कमियों के हिसाब से आईडिया या कहानी की नींव रखनी चाहिए। इसे मेरी सफाई मत समझिए बस कभी आगे भूल जाऊं इसलिए सबकी मदद के लिए, एक रिफरेन्स की तरह, सबसे शेयर करना चाहता था। यहाँ जो सोचा था इस फिल्म को बनाने से पहले उसके मुख्य अंश लिख रहा हूँ।

===================

1. Story Plot

सोनल को ग्रेजुएशन के बाद नौकरी मिलती है और वह उत्साह के साथ कंपनी ज्वाइन करती है। अपनी मिलनसार, jolly-chirpy नेचर की वजह से वह सबसे घुल – मिल जाती है। कुछ महीनो बाद एक एक्सीडेंट (सीढ़ियों से गिरकर / रोड एक्सीडेंट) में उसके सर पर चोट लगती है जिसके बाद से उसके अंदर धीरे-धीरे “Alien Hand Syndrome” के लक्षण दिखने लगते है। शुरू में पब्लिक प्लेसेस पर राइट हैंड में झटके से लगना, लोगो के सर या कमर पर हलके से मारना फिर स्थिति बिगड़ना – एक हाथ द्वारा उल्टा-सीधा मेकअप कर देना, स्ट्रीट मार्किट में कोई चीज़ उठा लेना जो उसे नहीं चाहिए: दुकानदार के पूछने पर मना करना पर उस चीज़ को ना छोड़ना फिर दुकानदार से लड़ाई / बहस, colleague-boss को पीटना और फिर बिना उसकी बात सुने पागल, चुड़ैल आदि संज्ञा देकर उसे नौकरी से निकाला जाना  etc . इस सब के दौरान उसकी दोस्त तान्या हमेशा उसके साथ रहती है।

नौकरी जाने के साथ-साथ इस डिसऑर्डर की वजह से उसका ब्रेकअप भी हो जाता है। परेशान होकर उसे अपना राइट हैंड काटने के अलावा कोई चारा नहीं दिखता, वो अपना हाथ काट लेती है, उसकी लाइफ दोबारा सामान्य हो जाती है। पर थोड़े दिन बाद एक रात वो साँस रुक जाने से जागती है और देखती है की उसके लेफ्ट हैंड ने उसका गला पकड़ रखा है।

==================

2. एलियन हैंड सिंड्रोम (मेकअप सीन)

सोनल को ऑफिस लौटने की जल्दी थी। आखिर नयी जॉब में कुछ दिनों बाद ही लंबी छुट्टी लेना कहाँ जमता है। वजह चाहे जायज़ भी हो पर अंजान शहर में खुद को साबित करने की राह शुरू करते ही स्पीडब्रेकर आत्मविश्वास डिगा देता है। अब एक्सीडेंट के बाद से सर में होने वाला दर्द काफी कम हो गया था। उसने बॉस और साथियों को बता दिया था कि वह आज से ऑफिस आएगी। अकेले रहने का यह फायदा भी था कि सोनल की एक हॉबी मेकअप तसल्ली से होता है। मस्कारा, नेल आर्ट, फाउंडेशन, हेयर स्ट्रीक सब में मास्टरी, खुद पर इतने प्रयोग जो किये थे बचपन से अबतक। नहीं तो कसबे के छोटे घर में कभी मम्मी झाँक के देख रही हैं, कभी पापा फाइल उठाने या जूते का रैक झाड़ने आ गए, एक कमांडो की तरह लाइट मेकअप करना पड़ता था।

अचानक सोनल को दाएं हाथ में एक झटका लगा। शायद नस फड़की होगी सोच कर सोनल वापस अपनी हॉबी में तल्लीन हो गयी। तभी उसका उसकी मर्ज़ी के बिना हाथ मस्कारा उठाकर उसकी आँखों के चारो तरफ गोले बनाने लगा। सोनल की डर से घिग्घी बन्ध गयी।

“ये हो क्या रहा है? कहीं मुझमे कोई भूत-चुड़ैल तो नहीं आ गया? नहीं….नहीं मुझे ऑफिस जाना है। शायद नींद में हूँ!”

सोनल ने मस्कारा के निशान साफ़ करने के लिए हाथ बढ़ाया तो दांया हाथ ड्रेसिंग टेबल पर पड़े मेकअप के सामान पर झपट पड़ा और दहाड़ें मारती सोनल पर अलग-अलग आकृतियां बनाने लगा। कुछ देर बाद जब वह हाथ रुका और सोनल के आया तब तक सोनल थक कर निढाल हो चुकी थी। सर में फिर से दर्द शुरू हो गया था, शीशे के सामने मेकअप से वीभत्स हुआ चेहरा देख वह बेहोश होकर सीधे शीशे पर गिरी। जब होश आया तो सोनल ने खुद को संभाल कर ऑफिस फ़ोन किया कि वह आज नहीं आ सकती।

==================

3. Basic Scene/Sequence Break 

सीन 1 (short scene)

सोनल (फ़ोन पर) – “डैड! मुझे नौकरी मिल गयी। अपने बैच में सबसे पहले। आप चिंता मत करो मेरे साथ यहाँ तानिया है।”

सीन 2 (short scene)

सोनल अपने ऑफिस में बॉस और कलीग्स से formally मिलती हुयी।

सीन 3 (split)

सोनल सीढ़ियों से गिरती है या उसकी स्कूटी का एक्सीडेंट होता है (अगर ज़्यादा रिस्क है तो symbolic दिखा दें।) उसके सिर में चोट लगती है। Head Injury क़े लिये bandage दिखायें। तानिया एक कमरे में उसके पास बैठी है।

तानिया – “सब ठीक हो जायेगा सोनल, तू बहुत स्ट्रांग है।”

सीन 4 (split)

*) – इसके बाद सोनल रिकवर करती है पर वह धीरे-धीरे एलियन हैंड सिंड्रोम के लक्षण दिखाने लगी।

i) – Doing makeup and one of her hands making bizarre figures on her face from maskara, powder etc.

अपने बिगड़े हुए चेहरे के साथ सोनल रोते हुए ऑफिस फोन कर रही है – “आज मैं ऑफिस नहीं आ पाऊँगी।”

ii) – . Alien Hand grabbing articles from street market and surprised vendor.

वेंडर – “मैडम पर्स चाहिए तो बोलो, ऐसे हैंडल टूट जाएगा।”

सोनल – “नहीं!!! मुझे यह पर्स नहीं चाहिए। (बड़ी मुश्किल से सोनल पर्स नीचे रखती है)

सोनल अब एक बेल्ट खींचने लगती है।

वेंडर – “मैडम या तो तुम पागल है या चोर, जो भी हो यहाँ से निकलो नहीं तो constable को बुलाऊंगा।”

सोनल – “मै चोर नहीं हूँ…कितने की है ये बेल्ट, कितने का पर्स है, ला दे। पागल नहीं हूँ!”

सीन 5

 Sonal beating a colleague and when her boss interferes she beats him, Embarrassed Sonal is fired from her job. (People calling her crazy not believing her rare disorder)

Colleague 1 (साहिल) – “सोनल तुम्हे सर ने clients की जो लिस्ट दी थी वो मुझे चाहिए।”

सोनल उसके बाल पकड़ कर पीटने लगती है।

साहिल – “अरे…..क्या मज़ाक है यह? छोडो मुझे। “

Colleague 2 (Rahul) – “सोनल छोडो साहिल को, ये तुम्हारा college नहीं है। “

बॉस आता है।

बॉस – “सोनल क्या हुआ? साहिल ने कुछ किया क्या तुम्हारे साथ? डरो मत मुझे बताओ!”

सोनल – “यह मैं नहीं… सर सॉरी but मैं तो… “

सोनल का हाथ साहिल को छोड़ कर उसके boss को मारने लगता है।

साहिल – “पागल… पागल है यह लड़की।”

बॉस – “सोनल अभी के अभी यहाँ से निकलो। तुमने जितने दिन का काम किया है उतने पैसे तुम्हारे अकाउंट में आ जाएंगे। यू आर फायर्ड!”

सीन 6 (Short)

Her Boyfriend breaking up with her (on phone only)

सीन 7

 आख़िरकार परेशान होकर उसने अपना हाथ काट दिया।

(Dark Circles under her eyes, वो अपने हाथ को पकड़ कर उसे डाँट रही है उसपर चिल्ला रही है। जवाब में उसका हाथ उसे मार रहा है, बाल खींच रहा है। परेशान होकर वह अपना हाथ काट लेती है। हाथ काटने के बाद उसे पकड़ कर सोनल चिल्लाती है – “अब मार मुझे, मार। अपनी मर्ज़ी से हिल। ” (पीछे चीखती हुयी तानिया – “यह क्या कर दिया सोनल!”

सीन 8

 (After few weeks) लाइफ फिर से नार्मल हुयी।

सोनल (तानिया से) – हाँ, डिसेबल्ड quota में एक गवर्नमेंट बैंक में क्लर्क कि जॉब है। फैमिली की बहुत expectations है, ऐसे सब ख़त्म नहीं हो सकता। मैं कल ऑफिस ज्वाइन करुँगी।

तानिया – “You are a fighter, इतना सब होने के बाद भी तुमने हिम्मत नहीं हारी। I am proud of you!”

सीन 9

 फिर उस रात वो उठती है और देखती है उसके दूसरे हाथ ने उसका गला पकड़ रखा है।

The End!

मोहित शर्मा ज़हन
 
#mohitness #mohit_trendster #theatrix #trendybaba #freelance_talents #freelancetalents

#FTC1516 Teams

wordcloud

50 creatives qualified out of thousands of artists and writers/poets…..25 artists are randomly paired with 25 authors-poets, and now we have 25 uber-talented teams competing against each other to win Freelance Talents Championship 2015-16.

1) – Giorgio Baroni – Dharmesh Talwar

2) – Amit Kumar – Avijit Misra

3) – Handika Taurus – Vyom Dayal

4) – Jan Różański – Moinac Patel

5) – Dominik Gutzeit – Kuldeep Gupta

6) – Manabendra Majumder – Rahul Ranjan

7) – Tadam Gyadu – Ranjana Sharma

8) – Ana Rocio Jimenez Zepeda – Amend Aeson

9) – Rory Jasper McGinnity – Evans Elise

10) – Eric Vasquez – Joseph Andrews

11) – Yohan Haash – Jen Steen

12) – Franz Heiner – Mark Trump

13) – Harendra Saini – Ankur Singh

14) – Ajitesh Bohra – Siddhant Shekhar

15) – Amit Albert – Rishi Sri

16) – Prince Ayush – Akash Kumar

17) – Jorge Noriega – Ren Taylor

18) – Andrey Ivanov – Jenny Dawnikins

19) – Dheeraj Dkboss Kumar – Anurag Singh

20) – Behnam Balali – Karan Virk

21) – Anand Singh – Yogesh Amana Gurjar

22) – Piyush Kumar – Neel Eeshu

23) – Vibhuti Dabral – Joe Thomas

24) – Soumendra Majumder – Kapil Chandak

25) – Yash Thakur – Vaibhav Singh

#FTC1516 #FTC201516 #FTC #Freelance_Talents #Freelancetalents

Freelance Talents Championship 2015-16 Info

Qv2ZoA1441837330

Freelance Talents invites entries (stories / poems) for the Qualification round of Freelance Talents Championship 2015-16. Think you have what it takes to challenge world’s top talent? Enter the Qualifiers of 3rd Annual International Freelance Talents Championship for your chance to win gift hampers, cash and get published in Freelance Talents Anthologies.

Rules:

1. One submission per individual, Submissions should consist of one short story or poem or extract from a longer work up to 1500 words in length.

2. Entries should be original works and should not have won previous awards or contests. Email your story/poem to: letsmohit@gmail.com

3. 5 Bonus Brownie points for top 10 Authors of FTC 2013 and FTC 2014.

4. Themes – Thriller, Romance

5. Languages – Hindi / English / Hinglish

6. Deadline – 17 September 2015 (11 PM)

*) – Thriller
Thriller fiction is a genre of fiction that uses suspense and tension to dramatically affect the reader. A thriller can provide surprise, anxiety, terror, anticipation, etc., in order to provide a rush of emotions and excitement that progress a story. It should generally be based around the strength of the villain and the protagonist, as well as their struggle against each other. This category might encompass several other genres, including horror, science fiction, and crime.

*) – Romance
Romance fiction can encompass and draw themes, ideas and premises from other genres and can vary widely in setting, dialogue, characters, etc. Generally, however, romance fiction should include a love story involving two individuals struggling to make their relationship work and an emotionally satisfying ending.

Best of Luck! ‪#‎freelancetalents‬ ‪#‎ftc‬ ‪#‎freelance_talents‬ ‪#‎ftc201516‬‪#‎FTC1516‬

——————————

download

Digital artists, Pencillers and Painters looking to make a splash on the international stage (and win exciting gifts, cash) are invited to register for the Freelance Talents Championship 2015-16.

This year, competition format requires artists and authors to collaborate and create one page artwroks / paintings / pinups based on different round-wise themes given by FTC committee.

Please attach few samples artworks or include link(s) of your online art portfolio. E-mail us the following details: 1) – Name, 2) – Type of artist (Digital, Traditional), 3) – I can color my artworks. (YES / NO), 4) – Experience in years to letsmohit@gmail.com or freelancetalents@yahoo.com, Limited spots! Registration is on a first come, first served basis. Hurry!

लेखक मोहित शर्मा (ज़हन) – February 2015 Update

bageshwari

*) – 1 poem and 1 story in inaugural issue of Bageshwari magazine (Editor – Mr. Yogesh Amana Gurjar)
*) – Randomiya and Zambo Zet Zahaaz ki Zustzoo webcomics continue….
IMG-20150227-WA0012
rvhjDL1425051376
*) – Columns for local daily Dainik Prabhat and First News news channel continue.
*) – Cover story and Article for Roobaru Duniya (March 2015) issue.
*) – Couple of new podcasts @ Soundcloud.
….and few delayed projects. 😦
– Mohit Trendster #मोहित_शर्मा_ज़हन
#mohitness #mohit_trendster #trendy_baba #freelance_talents

Mohit Trendster January 2015 Update

Mohit Trendster January 2015 Update

Namastey! 🙂 Off to a good, positive start this year.
*) – Now regular columnist, reporter for Dainik Prabhat daily Newspaper and News First Regional Channel (Meerut, Uttar Pradesh)
*) – Freelance Talents Invitational Writers-Poets Face off Event successfully completed, Mr. Amit Rawat won the event.
*) – Creation and registration of a community for authors – Writers Den.
*) – Special Audio Magazine Indian Comics Fandom (Vol. 8)
*) – Audiobook version of “Desi-Pun!” (2011) and “The Aryanist Journal # 02”(2014) released, zamzar robotic voice.
*) – Social Message Comic Stip on Blood Donation (used by few NGOs and Hospitals)

Khap Tau says “Donate Blood !!”

*) – Randomiya Webcomic with Soumendra Majumder, Manabendra Majumder Starts….. 🙂 #Randomiya…..
*) – Special Story – “Asli waala Love” Roobaru Duniya (February 2014)
*) – More podcasts, recordings, audio stories and short films very soon.

Mohit Trendy Baba – December 2014 Info

Namastey! 🙂 It’s been a busy year for me. I have been fortunate to work on variety of projects and collaborate with some amazing artists. Time for December 2014 archiving….

 *) – Recorded 5 new podcasts on comics, fiction, music and sports. (Mohit Trendster, SoundCloud and allied websites)
 —————-
 *) – Published second edition of The Aryanist Journal
 10636533_10205371883643804_8437631461672648484_o(1)

*) – Attended Comic Fan Fest 2014 event, shared my views in a brief interview.

*) – Cover Story for Roobaru Duniya Special Joint Edition (December 2014 – January 2015)

 
*) –  “Duality” Digital Painting with Mr. Vibhuti Dabral
 Vibhuti Dabral

“Based on an idea by the ever awesome Mohit Sharma Trendster

Duality permeates our lives. There’s Prakriti and Purush, Man and Woman, Good and Bad, Light and Dark, and so on. This painting is heavily influenced by the ancient Indian philosophy of Dvaita and the myth of Adam and Eve, the serpent who tricked them into eating the fruit from the Tree of Knowledge. The division however, only signifies that all existence is one. The two are complementary. They complete Creation.

It is very probable that our creation myths originate in the visions the ancient shamans had when they ingested psychoactive substances as a part of a spiritual or recreational practice. These substances, also known as entheogens or hallucinogens are many, but the most common and popular remain: cannabis/marijuana, Psilocybin mushrooms aka magic/psychedelic mushrooms, Ayahuasca, Peyote (Lophophora williamsii, Datura (Datura stramonium), etc. In the 20th century, Lysergic Acid Diethylamide(LSD), and Dimethyltryptamine (DMT)[also a part of Ayahuasca, a brew traditionally used in some Amazonian cultures for psychoactive purposes] became widely known and available.

Many have speculated that our ancestors routinely experimented with such psychoactive substances. In all probability, psychedelic mushrooms like Amanita muscaria and cannabis must have been very popular with them. These substances, when ingested give the persons who consumes them very vivid and intense visions, which led to deep and profound spiritual insights. The sense of wonderment and wisdom they had after such experiences might have led them to formulate the seeds of our collective mythology.

There is a mention of psychoactive substances in Indian and Persian traditions. In the Indian tradition, a mysterious drink or brew by the name of Soma is mentioned in Rigveda. It is described as the drink of the gods. In that text, it has been elevated to the status ‘god for gods’, and a position higher to that of Indra and other gods. The Rigveda, which has a complete section devoted to Soma, states:

We have drunk Soma and become immortal; we have attained the light, the Gods discovered.

Now what may foeman’s malice do to harm us? What, O Immortal, mortal man’s deception?

[Rigveda(8.48.3]”

 *) – Experimenting with new softwares, tools and mediums. Finalizing few scripts for short videos and educational documentaries. Update on delayed comic, video projects in first quarter of 2015. Thank you & Happy New Year!

Indian Comics Fandom Awards 2014 (Results & Info)

Results – Indian Comics Fandom Awards 2014

102_6602 (1024x768)_0
Indian Comics Fandom Awards 2014 Winners
*) – Best Blogger – Prashant Priyadarshi
*) – Best Cartoonist – Dheeraj ‘Dkboss’ Kumar
*) – Best Colorist – Ajay Thapa
*) – Best Reviewer – Neel Eeshu
*) – Best Comics Collector – Arun Prasad
*) – Best Fanfiction Writer – Karan Virk
*) – Best Fan Artist – Tadam Gyadu
Silver Positions (Runner-ups) – Indian Comics Fandom Awards 2014
*) – Blogger – Deven Pandey
*) – Cartoonist – Vineed Vijayan Ritchie
*) – Colorist – Jyoti Singh
*) – Reviewer – Mukesh Gupta
*) – Comics Collector – Abhinav Dutta
*) – Fanfiction Writer – Avijit Misra (Avi)
*) – Fan Artist – Amit Albert
Bronze Positions (Rank # 3) – Indian Comics Fandom Awards 2014
*) – Blogger – Anupam Agarwal
*) – Cartoonist – Soumendra Majumder
*) – Colorist – Mangesh Suryawanshi
*) – Reviewer – Rahul Kochar
*) – Comics Collector – Mehfooz Ali
*) – Fanfiction Writer – Frank Knot (Rahul Kumar)
*) – Fan Artist – Navneet Singh & Harish Atharv Thakur [Tie]

Hall-of-Fame

Indian Comics Fandom – Hall of Fame 2014

*) – Sanjay Singh
*) – Dheeraj Dkboss Kumar
*) – Mayank Sharma
*) – Arjun MedirattaNominations by from dozens of popular active-defunct communities, groups and discussion  boards dedicated to Indian Comics. Total 262 nominations in 8 categories this year. 2013 winners of a category not included in the same category this year.

P.S. Don’t forget to follow these Champions, Runner-ups and all other nominated awesome talents & checkout their profiles on various websites. Couple of Non-Poll categories results later this year.

#IndianComicsFandom #FreelanceTalents #ICFAwards