स्वर बंधन (लघुकथा) – मोहित शर्मा ज़हन

097-500x281

आलीशान बंगले में एक अंधी महिला ने प्रवेश किया। स्टाफ मे नई सेविका ने उत्सुकतावश हेड से पूछा।

“ये कौन है?”

स्टाफ हेड – “मैडम के बच्चे चीकू की देखभाल के लिए…”

सेविका – “पर ये तो देख नहीं सकती? क्या मैडम या साहब को दया आ गई इस बेचारी पर और कहने भर को काम दे दिया?”

स्टाफ हेड – “तुझे साहब लोग धर्मशाला वाले लगते हैं? उनकी मजबूरी है इसलिए चला रहे हैं। ये औरत पहले से ही बच्चे की देखभाल करती थी, एक दुर्घटना में इसकी आँखें चली गईं, पर अब भी नन्हा चीकू इसकी लोरी, कहानियां सुने बिना नहीं सोता है। जब चीकू थोड़ा बड़ा होगा इस बेचारी का यहाँ आना बंद हो जाएगा।”

समाप्त!

#mohitness #mohit_trendster #trendybaba #freelance_talents #freelancetalents