खाना ठंडा हो रहा है…(काव्य) #ज़हन

20429639_325503421229443_6199327503917694762_n

साँसों का धुआं,
कोहरा घना,
अनजान फितरत में समां सना,
फिर भी मुस्काता सपना बुना,
हक़ीक़त में घुलता एक और अरमान खो रहा है…
…और खाना ठंडा हो रहा है।

तेरी बेफिक्री पर बेचैन करवटें मेरी,
बिस्तर की सलवटों में खुशबू तेरी,
डायन सी घूरे हर पल की देरी,
इंतज़ार में कबसे मुन्ना रो रहा है…
…और खाना ठंडा हो रहा है।

काश की आह नहीं उठेगी अक्सर,
आईने में राही को दिख जाए रहबर,
कुछ आदतें बदल जाएं तो बेहतर,
दिल से लगी तस्वीरों पर वक़्त का असर हो रहा है…
…और खाना ठंडा हो रहा है।

बालों में हाथ फिरवाने का फिरदौस,
झूठे ही रूठने का मेरा दोष,
ख्वाबों को बुनने में वक़्त लग गया,
उन सपनो के पकने का मौसम हो चला है…
…और खाना ठंडा हो रहा है।

तमाशा ना बनने पाए तो सहते रहोगे क्या?
नींद में शिकायतें कहते रहोगे क्या?
आज किसी ‘ज़रूरी’ बात को टाल जाना,
घर जैसे बहाने बाहर बना आना,
आँखों को बताने तो आओ कि बाकी जहां सो रहा है…
…और खाना ठंडा हो रहा है।

============
Thumbnail Artwork – Arpit Shankar‎
#मोहित_शर्मा_ज़हन #mohitness #mohit_trendster
*Second poem in Matlabi Mela (Kavya Comic Series)

Advertisements

Jug Jug Maro # 1 – मुआवज़ा (काव्य कॉमिक)

cover

जुग जुग मरो सीरीज की पहली कविता और कॉमिक्स के संगम से बनी काव्य कॉमिक्स, “मुआवज़ा” शराबियों और सरकार पर कटाक्ष है, जो अपने-अपने नशे में चूर पड़े रहते हैं और जब तक उन्हें होश आता है तब कुछ किया नहीं जा सकता। अपना मन बहलाने के लिए कड़े कदम और राहत की मोक ड्रिल की जाते है और फिर सब पुराने ढर्रे पर लौट आते हैं। मुश्किल सामने पड़ी चुनौतियाँ नहीं बल्कि उनसे निपटने की नियत रखने में है। समाज का एक तबका इतना व्यर्थ माना जाता है कि 10 जाएं या हज़ार मजाल है जो समाज ठिठक तक जाए।
मोहित शर्मा ज़हन की प्रतिलिपि प्रोफाइल
intro-and-credits-page
Intro Page

Kavya Comic #12 – Kadr (कद्र)

kadr-cover-copy

Deepjoy Subba (Illustrator), Mohit Sharma (Writer-Poet), Harendra Saini (Colorist), Youdhveer Singh (Letterer), Cover Artist – James Boswell

Intro Poem (2016), Comic Poem (2007), Cover Art (1939)

04-copy-1

intro-copy-1

बेटा जब बड़े हो जाओगे….
बेटा जब बड़े हो जाओगे ना…
…और कभी अपना प्रयास निरर्थक लगें,
तो मुरझाये पत्तो की रेखाओं से चटख रंग का महत्त्व मांग लेना।
जब जीवन कुछ सरल लगे,
तो बरसात की तैयारी में मगन कीड़ो से चिंता जान लेना।

बेटा जब बड़े हो जाओगे ना…
…और कभी दुख का पहाड़ टूट पड़े,
तो कड़ी धूप में कूकती कोयल में उम्मीद सुन लेना।
जब सामने कोई बड़ी चुनौती मिले,
तो युद्ध में घायल सैनिक से साँसों की कीमत जांच लेना।

बेटा जब बड़े हो जाओगे ना…
…और कभी अहंकार का दंश चुभे,
तो सागर का एक छोर नाप लेना।
जब कहीं विश्वास डिगने लगे,
तो कुत्ते की आँखों से वफादारी नेक लेना।
कभी दुनिया का मोल पता ना चले,
गुरु की चिता पर बिलखते शिष्य में कद्र सीख लेना।

बेटा जब मेरी याद आये…
…तो अपने बच्चे को छाँव देती किसी भी माँ में मुझे देख लेना।

#ज़हन
===============

कद्र (काव्य कॉमिक) अब Culture POPcorn वेबसाइट, Google Books-Play, Archives, Issuu, Ebooks Daily, Comicverse आदि पर उपलब्ध।

http://www.culturepopcorn.com/kadr-kavya-comic-web-comic/

Kavya Comics (Volume 4)

ZaTE9x1464992586

काव्य कॉमिक्स संग्रह – 4, विभिन्न कलाकारों के साथ रची शार्ट काव्य कॉमिक्स (पोएट्री कॉमिक्स) का संकलन है। इस संकलन की टाइमलाइन वर्ष 2011 से लेकर 2014 तक है।

Upcoming Freelance Talents Comics

13072919_1007722989309756_3921154738834997024_o

*) – 3 Runs ka Sauda (3 रन का सौदा) by Amit Albert (Illustrator) and Mohit Trendster (Writer)

13076802_1008217769260278_8099920734744240312_n

*) – Domuha Aakrman – Tadam Gyadu
(Penciller), Mohit Trendster (Writer), Haredra Saini (Colorist), Youdhveer Singh (Letterer)

13102650_1009986652416723_2127992713812354482_n

*) – Kadr ‪#‎WIP‬ – Deepjoy Subba, Mohit Trendster, Neel Eeshu
‪#‎kavya‬ ‪#‎kavyacomics‬ ‪#‎poetry‬ ‪#‎poem‬ ‪#‎art‬ ‪#‎teaser‬ ‪#‎promo‬‪#‎freelancetalents‬ ‪#‎deepjoy‬ ‪#‎deepjoysubba‬ ‪#‎mohitness‬ ‪#‎neel ‬‪#‎mohit_trendster‬ ‪#‎trendybaba‬ ‪#‎trendster‬ ‪#‎freelance_talents‬ ‪#‎india‬‪#‎comics‬

Poetic Post (Desh Maange Mujhe) – मोहित शर्मा ज़हन

211 copy

Poetic Post – देश मांगे मुझे!

परिचित लोगो की प्रतिक्रिया अक्सर सामान्य प्रतीत होती है क्योकि हमे उनके व्यक्तित्व का भलीभाँती ज्ञान होता है। पर कभी कबार जानने वालो द्वारा किसी बात पर की गयी प्रतिक्रिया हमे चौंका देती है, ऐसा ही कुछ मेरे साथ हुआ जब मेरे एक अच्छे मित्र जो अपने संयमित व्यवहार के लिए जाने जाते है वो अपने प्रदेश बंगाल पर बनी एक पैरोडी पर बिफर पड़े कि आजकल लोगो को अपनी “जड़ों” का महत्व नहीं पता, बाहरी कंडीशनिंग ने स्थानीय बातों, चीज़ों रिवाज़ों, इतिहास को महत्वहीन बना दिया है आदि। पर यह वही मित्र है जो भारत का या बंगाल से इतर अन्य भारतीय हिस्सों का मज़ाक उड़ाते लेखो, पैरोडी जैसी बातों का बड़ा लुफ्त उठाते है साथ ही दूसरो से भी बाँटते है। यह रोष जो बंगाल पर कथित टिप्पणियों पर हुआ यह पूरे भारत पर भी आना चाहिए क्योकि यह देश जितना प्रधानमंत्री या राष्ट्रपति का है उतना ही आपका और हर एक नागरिक का। देश की विविधता का सम्मान आवश्यक है, यह मानना कि आपका छोर बाकियों से ख़ास है (सिर्फ इसलिए कि उस से हम जुड़े है) सरासर गलत है। भारत की नींव अनेकता में एकता, इकाई से अनंत बनाने के संदेश पर रखी गयी थी पर यहाँ तो अनेको इकाइयों में इतनी आत्ममुग्धता, अहंकार समां गया है कि वो स्वयं को सर्वश्रेष्ठ मान सारी बुराईयाँ अन्य में निकालते रहते है। यह बात ज़रूरी है कि एकता में ही विकास और समृद्धि है, अलग कुढ़ते रहने में ना देश की भलाई है ना ही आपके प्रदेश की।

काव्य कॉमिक्स के ऑनलाइन प्रकाशन के लिए Red Streak Publications को धन्यवाद। यह मेरी एक पुरानी कविता पर बनायीं गयी है, नयेपन के लिए विज्ञापन में एक काव्य और जोड़ा गया। टीम सदस्य पंकज, आयुष, पियूष और युद्धवीर जी को भी बधाई!
आपका
मोहित शर्मा ज़हन

Desh Maange Mujhe (Kavya Comics Series)

1465175_1611849349062806_1095877501795370586_n

Cover – Desh Maange Mujhe published by Red Streak Publications11811445_1611330485781359_1418349231159270887_n

Comic Ad

एक क़र्ज़ मेरे ऊपर जो बोलता नहीं, सूखी है जिसकी आँखें मुंह खोलता नहीं।
आईने के उस पार से जो झांकता परे, खुद से किसी गिरह को पर खोलता नहीं।
ख्वाबो में जबरन झरोखे बना लिये, पहली दफा देखी बेशर्म पर्दानशीं।
दुनिया-जहान की बातों को तरजीह मिल गयी, उन तमाम बातों में वतन का नामोनिशां नहीं।
अपनी ही कश्मकश में ज़िन्दगी गुज़ार दी, मुल्क की शिकन को कोई तोलता नहीं।
इंसाफी मुजस्मा शर्मसार झुक गयी, किस्मत को कोसती मुझसे कहने लगी
पाबंदी है यह कैसी…मैं कुछ देखती नहीं और तू कुछ बोलता नहीं !

Meri Aazadi ka Ruab (Kavya Comics)

Meri Aazadi ka Ruab (Kavya Comics) exclusively at Fenil Comics website and social media pages. by yours truly, Yash (Harish Atharv) Thakur, Soumendra Majumder, Ajay Thapa and Manabendra Majumder. – Mohit Trendster

Meri Azadi ka Ruab

Mohit Trendy Baba (March 2015 Updates)

*) – Second paper in English and Hindi on Inland Waterways of India submitted to a publisher.
*) – Published Laghu Kathayen and special articles on various issues (Prabhat Dainik, Shah Times and First News), you can read some of those – Online Archives, OA Apr and Trendy Baba Mafia Blog.
*) – Couple of event appearances.
event
*) – Conducted creative workshops for Arya Foundation, Meerut members.
*) – Freelance Talents and ICF online brainstorming hangouts.
*) – Page from new Kavya Comic….
SpireColor200_1S009