Daraaren Darmiyan (Ishq Baklol Poetry)

20814136_10213941543196691_645149925_n

कल देवेन पाण्डेय जी की नॉवेल इश्क़ बकलोल की प्रति मिली। 🙂 किताब का अमेज़न हार्डकॉपी लिंक जल्द ही एक्टिव होगा। उपन्यास शुरू होने से पहले किताब के 2 पन्नो पर मेरी कलम है….

दरिया में तैरती बोतल में बंद खतों की,
पलकों से लड़ी बेहिसाब रातों की,
नम हिना की नदियों में बह रहे हाथों की,
फिर कभी सुनेंगे हालातों की…
…पहले बता तेरी आँखों की मानू या तेरी बातों की?
चाहे दरमियाँ दरारें सही!

ये दिल गिरवी कहीं,
ये शहर मेरा नहीं!
तेरे चेहरे के सहारे…अपना गुज़ारा यहीं।
जी लेंगे ठोकरों में…चाहे दरमियाँ दरारें सही!

नफ़रत का ध्यान बँटाना जिन आँखों ने सिखाया,
उनसे मिलने का पल मन ने जाने कितनी दफा दोहराया….
जिस राज़ को मरा समझ समंदर में फेंक दिया,
एक सैलाब उसे घर की चौखट तक ले आया….
फ़िजूल मुद्दों में लिपटी काम की बातें कही,
चाहे दरमियाँ दरारें सही!

किस इंतज़ार में नादान नज़रे पड़ी हैं?
कौन समझाये इन्हें वतन के अंदर भी सरहदें खींची हैं!
आज फिर एक पहर करवटों में बीत गया,
शायद समय पर तेरी यादों को डांटना रह गया।
बड-बड बड-बड करती ये दुनिया जाली,
कभी खाली नहीं बैठता जो…वो अंदर से कितना खाली।
माना ज़िद की ज़िम्मेदारी एकतरफा रही,
पर ज़िन्दगी काटने को चंद मुलाक़ात काफी नहीं….
ख्वाबों में आते उन गलियों के मोड़,
नींद से जगाता तेरी यादों का शोर।
मुश्किल नहीं उतारना कोई खुमार,
ध्यान बँटाने को कबसे बैठा जहान तैयार!
और हाँ…एक बात कहनी रह गयी…
काश दरमियाँ दरारें होती नहीं!
==========
#ज़हन

Advertisements

Anthology: Apne-Apne Kshitij (Lagukatha Sankalan)

15356752_1147963198643973_441228001523743604_n

4 stories in the anthology, Book Launch: 8 January, 2017 – World Book Fair Delhi 🙂

अपने-अपने क्षितिज – लघुकथा संकलन (वनिका पब्लिकेशन्स)
56 लघुकथाकारों की चार-्चार लघुकथाओं का संकलन।
मुखावरण – चित्रकार कुंवर रविंद्र जी

विश्व पुस्तक मेले में 8 जनवरी 2017 को 11:30 बजे वनिका पब्लिकेशन्स के स्टैंड पर इस पुस्तक का विमोचन का कार्यक्रम है व, जिसमें आप सभी आमंत्रित हैं।

Zahanjori.in – ज़हनजोरी (Zahanjori) Book Website

2233

Screenshots: ज़हनजोरी (Zahanjori) Book Website Yay!!!
http://www.zahanjori.in/

ज़हनजोरी (कहानी संग्रह) – Zahanjori Back Cover

thumbnail (1)

thumbnail

Zahanjori is now available worldwide. Grab your own copy now. In India, it is available in Amazon, Flipkart, BooksCamel and many other online retailers.

Book – ज़हनजोरी (Zahanjori) [ISBN: 9781618133922] #update

13906862_136572103451547_3383881796427622348_n

Namastey! 🙂 I am happy to inform you about my new book (story collection) ज़हनजोरी (Zahanjori). It’s preorder is now available on BooksCamel. Follow this link: www.bookscamel.com/preorders/zahanjori

More deals, discounts and Amazon.comFlipkartDoor DealsInstamojoGoogle weblinks soon.

53 stories and poems, Paperback: 152 pages, Hindi

ISBN: 9781618133922

‪#‎mohitness‬ ‪#‎ज़हन‬ ‪#‎ज़हनजोरी‬ ‪#‎mohit_trendster‬ ‪#‎preorder‬ ‪#‎update‬

Kavya Comics (Volume 4)

ZaTE9x1464992586

काव्य कॉमिक्स संग्रह – 4, विभिन्न कलाकारों के साथ रची शार्ट काव्य कॉमिक्स (पोएट्री कॉमिक्स) का संकलन है। इस संकलन की टाइमलाइन वर्ष 2011 से लेकर 2014 तक है।

Update #mohitness

IMG_0004

Page from Matlabi Mela, Kavya Comic (WIP) with illustrator Anuj Kumar

===================

Random Micro Fiction Tales

1. परिस्थिति कुछ ऐसी बनी कि कीटाणु से भरे गंदे पानी के साथ इम्युनिटी की गोली लेनी पड़ रही थी…..कुछ तो न्यूट्रलाइज हो।

2. जिस स्टेज पर आने के लिए पूरा कैरियर मेहनत की उसपर आकर लगा मेहनत सफल हो गयी। उस प्लेटफार्म पर आते ही अपने कैरियर का सबसे बेकार प्रदर्शन किया….फिर दोबारा मौका नहीं मिला।

3. लगा था पुराने दोस्त से इतने सालों बाद मिलना होगा तो वही पहले जैसा मज़ा आएगा। यह मुलाक़ात तो औपचारिकता भर रह गयी, जहाँ दोनों को अपनी ज़िन्दगी में लौटने की जल्दी थी।

#mohit_trendster #mohitness #freelance_talents

Infra-Surkh Shayars vs. Life (Poetry Collection) #freelance_talents

Promo ISSvsL

A collection of poems in English, Hindi, Spanish and Urdu.

Infra-Surkh Shayars (What is Life?)
Pages: 43

Published: October 2013

ISBN: 9781311426581

Artists – Melina Dina (Melibee) :: Dr. Inayat Khan Qazi :: Mohit Sharma (Trendster)

Editor – Kamlesh Sharma

© Freelance Talents (2013), all rights reserved.
#late_update